सूर्योदय से पहले ही क्यों दी जाती है फाँसी, जानें रोचक तथ्य

फांसी देने से पहले जलाद कहता कि मुझे माफ कर दिया जाए… हिंदू भाईयों को राम-राम, मुस्लमान भाइयों को सलाम। हम क्या कर सकते हैं हम तो हुकुम के गुलाम।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.