अब शारीरिक और मानसिक रूप से संतुष्टि के लिए औरतों को मर्द की नही पड़ेगी जरूरत

जिस तरह से आज टेक्नोलॉजी का विकास हो रहा है उससे तो शायद यही लग रहा की आने वाले समय में सारा का सारा काम मशीने ही करेगी। लेकिन भारतीय शास्त्रों में कहा गया है कि अति सर्वत्र वर्जयेत, यानी सीमा से अधिक उपयोग हमेशा दुखदायी होता है। जी, हां ऐसा ही कुछ इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के अत्यधिक उपयोग पर वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि 2050 तक औरतों को मर्दों की आवश्यकता नहीं रहेगी। मर्द की जगह रोबोट उनको शारीरिक और मानसिक रूप से संतुष्ट करने में सक्षम होगा।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.